खबरे

गीतकार जावेद अख्तर ने बुल्ली बाई को धर्म संसद से जोड़ा और कहा ‘चुप क्यों हैं PM मोदी?

जावेद अख्तर जी को हम सब जानते ही हैं, इनका बॉलीवुड में कहानीकार से लेकर गीतकार का सफर तो हमने देखा ही हैं. पर ये कैसे बने ट्वीटर ट्रोल ये देकते है। हम देखते रहते हैं की जावेद जी ट्वीटर पर धर्म को लेकर कुछ न कुछ पोस्ट करते ही रहते है। इसीलिए वो सोशल मीडिया पर बहुत सुन चुके हैं और इस बार फिर से जावेद जी ने हिन्दू धर्म पर और भाजपा के ऊपर अपना गुस्सा बताया है। इस बार ट्वीट करते हुए जावेद जी ने कहा ” जहा एक तरफ सैकड़ो औरतो की बोली ऑनलइन लगायी जा रही है, और दूसरी तरफ हम देख सकते हैं की धर्म संसद जैसे आयोजन किये जा रहे हैं।

गीतकार जावेद अख्तर ने बुल्ली बाई को धर्म संसद से जोड़ा से ट्रोल बने और कहा ‘चुप क्यों हैं PM मोदी?

इनमे भारतीय सेना, जनता और पुलिस को लगभग २० करोड़ लोगो के नरसंहार के लिए उकसाया जा रहा है “। और जावेद जी ने यह भी कहा की लोगो की इस बात को लेकर चुप्पी से वे बहुत चकित हैं और खासकर जावेद जी को इस बात पर आश्चर्य हो रहा हैं की सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी कैसे इस बात पर चुप हैं।

क्या यही है सबका साथ?

इसके साथ जावेद जी ने ये भी सवाल किया की क्या यही है ‘ सबका साथ, सबका विश्वास और सबका विकास’ है? प्रमुख लेखक जावेद जी ने ऑनलाइन मुस्लिम महिलाओ के नीलामियों को और धर्म संसद को लेकर कहा था की धर्म सांसदों ने इसकी पुष्टि की है की एक एक कायर से भी ज्यादा कोई दुसरो के दुःख में खुश होने वाले है और इस चीज़ का विकृति नहीं हो सकता।

javed akhtar on bulli bai app

आगे उन्होंने ये भी कहा की इन लोगो के पास इतनी हिम्मत सिर्फ इसी कारण से है की उन्हें सत्ता के संगरक्षण का आधार रहता है। जावेद ने पहले भी कपिल सिब्बल जो कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री थे, रीट्वीट किया था, इस ट्वीट में उन्होंने कहा की हरिद्वार धर्म सांसद के आरोपियों को UAPA की और से गिरफ्तार की मान बताई थी। और इसी बात पर सिब्बल ने भी पूछा था की इस बात पर यूपी मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्यों चुप हैं। और इन्होने ही उर्दू भाषा पर आपत्ति जताते हुए भी ट्वीट किया था।

जानकारी के मुताबिक हम आपको ये बता दे की धर्म संसद में २ FIR दर्ज किये हैं , ये FIR उत्तररखण्ड के हरिद्वार में आयोजित किये गए हैं इनमे से मंदिर में वासिम रिजवी और महंत नरिसमहानन्द सरस्वती से जीतेन्द्र नारायण सिंह बने सुन्नी वख्वा बोर्ड के बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष का नाम भी है और दूसरे FIR में १० नाम भी है। इनमे महात्मा गाँधी, मनमोहन सिंह जो पूर्व मुख्यमंत्री हैं इनके भी नाम है जिन्होंने मुसलमो के खिलाफ आपत्तिजनक टिपणी के आरोप लगाए गए है। भड़काऊ बयान देने के आरोप और भी नेताओ पर लगे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.