महाराष्ट्र – अकोला नगर निगम मे टीपू सुल्तान के नाम पर स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स, हिरासत में बजरंग दल के कार्यकर्ता

अकोला नगर जो महाराष्ट्र का है, यहाँ के नगर निगम के स्थाई समिति की हॉल का नाम टीपू सुल्तान के नाम पर रखा गया है | अब इस बात को अकोला के नगर निगम के विपक्ष नेता के साजिद खान पठान ने दी है। कांग्रेस के पदाधिकारी है साजिद खान पठान। २० जून 2021 को जो की अबसे 1 वर्ष पहले ही इस बात का प्रस्ताव टीपू सुल्तान के नाम का प्रस्ताव लेजाया गया था | उस समय अकोला के नगर निगम पर कांग्रेस की बहुजन पार्टी का भार था | सूत्रों के हिसाब से इस मुद्दे पर कांग्रेस और NCP की राय शिवसेना के राय से बहुत अलग है। राज्य के सरकार को महाविकास अघाड़ी में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ही चला रही है |

akola sports complex naming against tipu sultan

टीपू सुल्तान के ना पर शिवसेना अभी भी रूखी हुई है और इसके विरोध में है। भाजपा भी अकोला के नगर निगम में की गयी सत्ता का सहयोगी है। टीपू सुल्तान के नाम की सुचना 1 वर्ष पहले भाजपा के वर्तमान महानगर अध्यक्ष विजय अग्रवाल ही थे। उस समय विजय अग्रवाल कांग्रेस पार्टी के नेता थे। इस पूरे मामले से विजय अग्रवाल अनजान ही रहना चाह रहे है | उनका यह कहना है की, ” कोई भी उस समय इस मामले में सूचक या अनुमोदक हो सकता है | उन्होंने ये भी कहा है की टीपू सुल्तान के नाम पर मेरा हमेशा विरोध ही रहा है। आज भी वे इसके विरोध में ही बात कर रहे है |

महाराष्ट्र के अकोला नगर निगम के सभागार का नाम, हिन्दुओ के कातिल टीपू सुल्तान पर रखा गया, स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स के नाम को लेकर हुआ था बवाल

दूसरी और भाजपा पर कांग्रेस ने सवाल खड़े किये है। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस महासचिव और कांग्रेस के नेता सचिन सावंत ने ये लिखा है की, ” टीपू सुल्तान का विरोध करने वाली भाजपा का दोहरा चरित्र दिख रहा है। अकोला नगर निगम के स्थायी समिति हॉल ला नाम ‘ शायद-ए-वतन शेर- ए -मैसूर टीपू सुल्तान ‘ के नाम पर २०१२ में रखा था। बताया जा रहा है की पहले भी मुंबई में सरकार और मुंबई में टेक्सटाइल मंत्री असलम शेक द्वारा मलाड में रहे स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स का नाम भी इसी तरह टीपू सुल्तान के नाम पर रखे जाने के कारण तभ भी बवाल मच गया था | २६ जनवरी को उट्घाटन की तारीख फाइनल किया गया था।

इस पर कही हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओ ने विरोध किया था और उन सभी को पुलिस ने अपने हिरासत में लिया था। इस बात का विवाद बढ़ता ही गया और २६ जनवरी २०२२ बुधवार को महाराष्ट्र के पर्यवरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने यह कहा की अभी इस जगह का नाम फाइनल नहीं किया गया है। उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ने यह कहा था की, ” परियोजनाओं के आधिकारिक नामो को अंतिम रूप देने BMC के दायरे में आता है। उस पार्क के नाम को लेकर अभी भी कुछ भी अंतिम फैसला नहीं लिया गया है, ऐसा महापौर ने कहा है।

Leave a Comment