खबरे

भारत मे OMICRON के रोजाना आएंगे 10 लाख तक कोरोना केस,

पिछले साल कोरोना ने इस तरह दहशत मचा रखा था की लोग उसे अभी तक भूल नहीं पाए। कुछ लोग तो अब भी कोरोना से हुए नुकसान के भुक्तान भर रहे है, कई घर में उनके अपने खोदने का घूम अभी गया भी नहीं की कोरोना ने फिरसे अपना पेअर पसारा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत में पिछले २४ घंटो में १,१७,१०० नए केसेस ए है। पिछले सात महीनो में देखा जाये थो इस बार केसेस १ लाख के ऊपर पहुंच गए है। इसके चलते एक गौटिया मॉडल की स्टडी की गयी और इसीमे बताया गया की कब कोरोना का पीक होगा और कब इसके केस कम होने लगेंगे. हम आपको बतादे की भारत में फिरसे कोरोना के केसेस बहुत तेज़ी से बढ़ रहे है।

भारत मे OMICRON के रोजाना आएंगे १० लाख तक कोरोना केस, IIS ने किया अंदाज़ा की कब तक आएगा पीक

पिछले २४ घंटे का रिपोर्ट अगर दिया जाये तो देखा जा रहा है की, पिछले १ दिन में १,१७,१०० नए कोरोना केसेस पाए गए है। कोरोना के साथ साथ ओमिक्रोण के कुल ३००७ केसेस पाए गए है। जबकि उन ३००७ में से ११९९ लोग ठीक हो चुके है। जब इस पर स्टडी किया गया थो ये बात सामने लाया गया की भारत में जनवरी के तीसरे या चौथे सप्ताह के बीच कोरोना की तीसरी लहर बहुत पीक पर आ सकता है। भारतीय विग्नां संसथान और भारतीय सांख्यिकी संसथान जो बनगूलर टीम ही, इन्होने इस स्टडी को रिपोर्ट किया है।

corona omicorn variant

हम आपको बतादे की इस स्टडी के बुताबिक, देखा जाये थो मार्च की शुरुआत से लेकर मार्च के ख़त्म होने में कुछ केसेस कम हने का इरादा देखा जा रहा है। इस मुताबिक कोरोना का ग्राफ इस महीने में निचे जाते दिखेगा। और ये इनका ही नहीं बल्कि दक्षिण अफ्रीका और कही अन्य देशो के साइंटिस्ट्स के मुताबिक भी ओमिक्रोण की वजह से पहले कोरोना केसेस ज्यादा बढ़ते दिखाई देंगे फिर उतनी ही तेज़ी से कम भी होजाएंगे।

अंदाज़ा यही की कोरोना केसेस मार्च तक कम होते दिखाई देंगे-

कहा जा रहा है की नयी स्टडी के हिसाब से गणतीय मॉडलिंग के आधार पर कैलकुलेट किया गया ये सर्वे की कोणवीरस इस वायरस के ओमिक्रोण केसेस के मामले जनवरी में बहुत तेज़ी से बढ़ते दिखेंगे वही देखा जाये थो मार्च के महीने में ही उतनी ही तेज़ी से इन कसो को कम होते देखा जायेगा। इस गौटिया का हिसाब वक्सीनशन, वीक इम्युनिटी और पूर्व इन्फेक्शन के आधार पर किया जा रहा है। कितना भी वक्सीनशन हो और देखा जाये थो पिछले संक्रमण के बावजूद बढ़ती आबादी को देखे थो ये वैरिएंट जल्दी से फ़ैल रहा है।

एक स्टडी के मुताबिक कहा जा रहा है की यह वायरस इन पर ज्यादा हावी होने लगेगा जो बीमार, वृद्ध या बहुत कमज़ोर इम्युनिटी वाले लोगो पर। एक अनुमान लगाया जा रहा है की शायद रोजाना ३ लाख, ६ लाख या फिर उससे भी ज्यादा १० लाख तक के मामले देकने को मिलेंगे। देखा जाये थो ६ जनवरी २०२२ तक देश में SARS -COV  २ के ३००० केसेस आगे ए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.