खबरे

PM मोदी को ‘इस्लामी आतंकी संगठनों – खालिस्तानियों से खतरा

हाल ही में नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुए चूक के बाद पंजाब सरकार पर लगातार गैर ज़िम्मेदार होने के रवैये की बात आगे आते जा रहे है। अब तो ये भी बात बहार आ गयी है की पंजाब सरकार से ख़ुफ़िया एजेंसी ने इस तरह सड़क ब्लॉक करने के बारे में तीन दिन पहले ही वार्तालाप किया गया था। साफ़ तौर पर एक एजेंसी के रिपोर्ट के मुताबिक ये कहा गया था की प्राइम मिनिस्टर को जैसे-ए-मुहम्मद, सिमी, लश्कर-ए- तैयब्बा, और इंडियन मुजाहिद्दीन जैसे खालिस्तानी आतंकीयो से बहुत खतरा है। इसके अलावा यह बात भी सामने आया है की पाकिस्तान में रहने वाले खालिस्तानी आतंकी परमजीत सिंह पंजवार, रंजीत सिंह नीता, वाधवा सिंह बब्बर, लखबीर सिंह राढ़े, ये लोग भी पंजाब में दुबारा से उस प्रदेश में आतंकवाद को पुनर्जीवित करने का प्रयास कर रहे है।

PM मोदी को ‘इस्लामी आतंकी संगठनों – खालिस्तानियों से खतरा 3 दिन पहले ही पंजाब की कांग्रेस सरकार को बताया, पर नहीं दिया ध्यान

और इस चुनावी समय में उन लोगो का निशाना बड़े बड़े वीआईपी ही होते है। गुरपतवंत सिंह जो की सिख और जस्टिस के संस्तापक है, इन्होने भी कुछ ऐसे भड़कीले बयान दिए है जिसमे वे सीखो को बीजेपी के खिलाफ भड़का रहे है। इतना ही नहीं बल्कि ख़ुफ़िया एजेंसी ने इस बात को भी गौर करवाया था की सिर्फ १४ से १५ किलोमीटर पर ही हवाई है जिस फिर्जापुर में पीएम की रैली होने वाली थी।

khalistan group behind pm modi security breach

इसके साथ साथ किसानो के बिंदु को भी कृषि कानूनों पर भड़काया गया और उजागर किया। और उनलोगो को ये भी कहकर भड़काया की भले ही कृषि कानून वापस हो गए। लेकिन एएसपी जैसे मुद्दे परसन्तोष अभी भी जारी है। यह सारा मामला शुरू हुआ ५ जनवरी २०२२ को, इस दिन प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को पुरे बंदोबस्त के साथ फ़िरोज़पुर में रैली के लिए सड़क मार्ग को चुनकर फ्लाईओवर से जाना पड़ा। और इस फ्लाईओवर पर मोदी को प्रदर्शन कार्यो की वजह से १५-२० मिनट तक रुकना पड़ा। और इस प्रबंध में हुई चूक की वजा से इस मामले को बड़ी ही गंभीरता से लिया जा रहा है। इस मामले को इसलिए भी इतना सीरियस लिया जा रहा है क्योकि ये चुनावी समय है।

वरिष्ठ अधिकारी जो की गृह मंत्रालय से है उन्होंने ने भी कहा की प्रदर्शनकरियो के बारे में ख़ुफ़िया जानकारी होने के बाद भी पंजाब पुलिस ने ‘ब्लू बुक’का पालन क्यों नहीं किया। इसके चलते बिलकुल इसी तरह का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, इस वीडियो में भी हम देख सकते है की किसानो ने फ्लाईओवर पर प्रधानमंत्री को घेरा और उन्हें निचे फेक दिया। यह वीडियो खालिस्तानियों द्वारा बनाया गया है और ये लगभग एक साल पुराना वीडियो है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.