खबरे

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 74 वर्ष की आयु में निधन

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 74 वर्ष की आयु में निधन :

राजनीति के मौसम वैज्ञानिक कहे जाने वाले लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के वरिष्‍ठ नेता और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का आज दिल्ली के एस्कार्ट अस्पताल में 74 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। वे पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे और हाल ही में उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी। उनके बेटे चिराग पासवान ने एक ट्वीट करके अपने पिता के निधन की जानकारी दी. उन्‍होंने लिखा कि ”पापा अब आप इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं। मिस यू पापा…

ramvilas paswan son chirag paswan bihar

रामविलास पासवान, फिलहाल नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व वाली एनडीए सरकार में उपभोक्‍ता मामलों तथा खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री मंत्रालय की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे। 5 जुलाई 1946 को खगरिया जिले के शाहरबन्‍नी के एक दलित परिवार में जन्‍मे और जेपी आंदोलन से भारतीय राजनीति में उभरे पासवान की गिनती देश के कद्दावर नेताओं में होती थी।

उनके निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा है कि देश ने एक दूरदर्शी नेता खो दिया है। रामविलास पासवान संसद के सबसे अधिक सक्रिय और सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले मेंबर रहे। वे दलितों की आवाज थे और उन्होंने हाशिये पर धकेल दिए गए लोगों की लड़ाई लड़ी।

बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी (झांसी) से एमए और पटना यूनिवर्सिटी से एलएलबी करने वाले पासवान ने 1969 में पहला चुनाव लड़ा था। पासवान 1969 में पहली बार पासवान बिहार के राज्‍यसभा चुनाव में संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के कैंडिडेट के तौर पर चुनाव जीते। फिर 1977, 1982 और 1989, और 1996 में जनता पार्टी के टिकट पर सांसद बने। इसी बीच 1983 में उन्‍होंने दलित सेना का गठन भी किया।

2000 में पासवान ने जनता दल यूनाइटेड से अलग होकर लोक जन शक्ति पार्टी का गठन किया। इसके बाद वह यूपीए सरकार से जुड़ गए और रसायन एवं खाद्य मंत्री और इस्पात मंत्री बने। पासवान ने 2004 में लोकसभा चुनाव जीता, लेकिन 2009 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। पासवान अगस्त 2010 में बिहार राज्यसभा के सदस्य निर्वाचित हुए और कार्मिक तथा पेंशन मामले और ग्रामीण विकास समिति के सदस्य बनाए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.