तेलंगाना मे सरकारी स्कूल टीचर बच्चो को लालच देकर ईसाई बन जाओ पैसा मिलेगा कहता था

धर्म के परिवर्तन को बढ़ावा देते हुए तेलंगाना में एक स्कूल में एक शिक्षक पर ये शिकायत का मामला सामने आया है। विकाराबाद के मैलवार में स्थित ZPHS के एक सरकारी स्कूल के एक छात्र ने यह खुलासा किया है की उसके गणित के शिक्षक रत्नम ने उसे अपने धर्म से ईसाई धर्म में खुद को बदलने के लिए कह रहा है। और वो बच्चो को यह प्रोत्साहित कर रहा है की धर्म बदलने से आपको अमेरिका से पैसे और ढेर सारे गिफ्ट भी मिलेंगे। ट्विटर हैंडल पर लीगल राइट्स प्रोटेक्शन फोरम द्वारा यह जानकारी पता चली है।

convert to christian greed students by a teacher

इस विषय में आगे देखा जाये तो इस शिक्षक पर कुछ छात्रों ने पूर्व में यह आरोप लगाया था की उन्होंने छात्रों के बीच भेदभाव करने का आरोप लगाया है। इस आरोप के चलते बात यह है की एक मामूली सी बात पर इस शिक्षक ने दलित छात्रों को अन्य छात्रों के प्रेयर चुने के लिए कहा है। और तो और उसने जातिगत भेदभाव करते हुए उन छात्रों को पीटा भी। ऐसा करने से छात्रों के मनोभाव को ठेस पहुंची और वे अपमानित महसूस कर रहे है।

तेलंगाना मे सरकारी स्कूल टीचर बच्चो को लालच देकर ईसाई बन जाओ पैसा मिलेगा कहता था माँ सारस्वती का चित्र हटाओ

उस गणित शिक्षक की हरकते वही पर नहीं रुकी उसने छात्रों के हाथो से कक्षा के सारी दीवारों पर से माँ सरस्वती की फोटो को हटवाने लगाया। उस गणित शिक्षक ने कही बार कक्षा में जात भाव को लेकर छात्रों से अभद्र भाषा का भी प्रयोग करता है। इस टीचर पर IPC की धरा २९५-ए के तहत पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पर इस केस से सम्बंधित धरा २९५-ए के बगैर इस केस से सम्बंधित IPC और जुवेनाइल जस्टिस एक्ट की बाकी धाराओं को शामिल किया नहीं गया है। इस केस में नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ़ चाइल्ड राइट्स NCPCR से हस्तपेक्ष की मांग की गयी है।

ऐसा मामले पहले भी देखा गया है, ये ऐसा पहला मामला नहीं है। पहले दक्षिण भारत के कई राज्यों में इस तरह के मामले देखे गए है। तब स्कूलों में टीचर अपने बच्चो को प्रलोभन देकर, डरा कर धमका कर इस्लाम और ईसाई धर्म को अपना बनाने के लिए कहा जाता था। हल ही में इसी साल पहले महीने में बंगलोरे के एक स्कूल में एक छात्र को दंड के रूप में इस्लामी ढंग से प्रार्थना करवाई। यह मामला आर्किड इंटरनेशनल स्कूल में देखा गया। वह भी एक गणित शिक्षक ने अपनी छात्रा को एक सवाल हल न करने पर उसे अल्लाह की इबादत करे और इस बात को वो किसी से न बताये।

Leave a Comment