CM योगी ने अमेठी इलेक्शन में सपा नेता अखिलेश यादव पर गरजे

सोमवार ३ दिसंबर २०२१ को यूपी के मिख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने केंद्रीय विद्यालय और बल विकास मंत्री स्मृति ईरानी के लोकसभा क्षेत्र अमेठी में जिला स्थिरिया रेफरल चिकित्सालय और राजकीय मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण किया था। जान विश्वास यात्रा का नेतृत्व दोनों नेताओ ने भी किया था। योगी जी ने अपने उपदेश में कहा की जिनके भी पूर्वज कहते थे की वो आकस्मिकता से हिन्दू बने है और जो भी जो भी लोग विभाजनकारी राजनीती को हमेशा ही अपनाया हो, विभाजन और विघटन खुद के जींस का हिस्सा है वे लोग अपने आप को कभी भी हिन्दू नहीं बता सकते।

आगे योगी ये भी कहा है की लोगो में अभी कोई घबराहट रही है और नाही कोई छुपवा। उनके शब्दों में वो आगे बोले की वह जब मुख्यमंत्री नहीं थे तब भी एहि कहते थे, आगे भी एहि कहेंगे और आगे भी गर्व कहते रहेंगे की वे हिन्दू है।

CM योगी ने अमेठी इलेक्शन में सपा नेता अखिलेश यादव पर गरजे, कहा बुलडोज़र चलता हैं तो बबुआ को बुरा लगता हैं

मुख्यमंत्री योगी ने कहा की साम्प्रदायिकता विरोध का कानून लेकर हिन्दुओ को कैद में रकना चाहते है, और हिन्दुओ के आस्था के साथ खिलवाड़ करा जा रहा है और जब चुनाव की बरी अति है तो ये लोग क्यों निकल पड़ते है हिन्दू बनने के लिए। बहुत ही स्पष्ट रूप से यह भी कहा था की हिन्दू हमारी पहचान है और हम भारतीय है और इस बात पर हमको गौरव का भाव होना चाहिए। उन्होंने कहा की चुनाव के समय जो भी नेता जहा जहा अपने दर्शन देने गए वो लोग चुनाव के बाद क्यों दिखाई नहीं देते।

yogi in amethi rally

चुनाव के साढ़े चार साल तक ये लोग क्यों नहीं दीखते। गायब क्यों होजाते हैं और फिर क्यों नहीं दीखते। कोरोना जैसे महा प्रकोप के समय क्यों कोई भी  कोई नेता, कोई भी जान प्रतिनिधि, कोई भी कार्यकर्ता, सपा, कांग्रेस, राष्ट्रीय अध्यक्ष से लेकर के कोई साधारण कार्यकर्ता भी जनता के बिच देखने को नहीं मिले नहीं सहानुभूति के लिए नहीं मदद के लिए और ये लोग को तब बुरा लगता है जब बुलडोज़र चलता हैं।

आगे बढ़ते हुए योगी जी ने कहा था क्या ये दो भाई बहन अयोध्या में मंदिर बने लेते थे ? जब सोमनाथ मंदिर के पुनरुद्धार के कार्य में जब डा. राजेंद्र प्रसाद जा रहे थे तब इनके परनाना ने विरोधी जताई थी, ऐसा नहीं करना चाहिए था इन्होने कहा और एहि लोग जब राम मंदिर बन रहा था तभी भी विरोध करते थे और प्रदेश सरकार का जब बुलडोज़र चलता है तो ये लोग को क्यों बुरा लगता हैं, जब माफिया की संपत्ति ज़प्त होती है तब उन्हें बुरा लगता हैं। ऐसा क्यों होता है की ये दो भाई बहन को तभी बुरा क्यों लगता हैं जब माफियाओ पर बुलडोज़र चलता हैं। क्यों ये लोग आतंकवादियों के खिलाफ मुक़दमे वापिस लेते हैं।

Leave a Comment